×

ज़िन्दगी की रफ़्तार

By Devesh in Poems » Short
Updated 17:08 IST Apr 07, 2017

Views » 176 | 1 min read

इतनी तेज़ रफ़्तार ज़िन्दगी में,

कछुए की चाल ना चलो 

आज कल ख़रगोश सोते नही राह में,

और ना मिलता है कोई चिराग जिससे तुम मलो ।

 

 

1 likes Share this story: 0 comments

Comments

Login or Signup to post comments.

Sign up for our Newsletter

Follow Us