×

Gaurow gupta

"स्त्री" ----------- गढ़ दी गयी कवितायेँ स्त्री के भूगोल पर चर्चाएं, आँख ,कमर वक्ष पर खूब की गयी स्त्री का इतिहास भी अछूता नही रहा देवी से लेकर दास तक की गाथा खूब लिखी गयी मनोविज्ञान भी स्त्री क... read more...
14-Sep-2016 • 301 views
पिता को बूढ़े होते देख रहा, अब अख़बार को आँखों से सटाकर पढ़ते है, चाय बिना चीनी के पीते है, अब आँखे लाल नही होती मेरी गलतियों पर।   माँ के चेहरे पर थकावट द... read more...
14-Dec-2016 • 331 views
Poems
» Long
शहर और गाँव ------------------------- कितना अच्छा है शहर संगठित, साफ- सुथरा खुबसूरत बड़े मकान थूकने के लिये, सड़क किनारे पीकदान   लम्बी- लम्बी गाड़ियाँ जिसके अंदर आदमी, जानवर दोनों है सवारियाँ... read more...
14-Dec-2016 • 336 views
इन दिनों कुछ नया शब्द ढूंढ रहा   कि गढ़ सकु नए अर्थ इनमे अब तक पुराने पर ही पैबन्द लगा कर सुनाता था तुम्हे कविताये तुम्हे पैबंदो से प्यार होता गयाऔर मैं नए अर्थ से दूर... read more...
15-Mar-2017 • 350 views
Gaurow gupta does not have any followers
Gaurow gupta is not following any kalamkars

Sign up for our Newsletter

Follow Us